टाइट जींस पहन कर की लांग ड्राइव, नसों में जमा खून
| 11/21/2019 9:26:51 PM

Editor :- Mini

नई दिल्ली,
अगली बार आप लांग ड्राइव पर जाएं और पैर सो जाएं या सूजन बनी रहे तो इसे हल्के में न लें, लंबी यात्रा के दौरान कुछ बेहद छोटी गलतियों के गंभीर परिणाम हो सकते हैं। ऐसे ही एक मामले में तीस वर्षीय युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिसमें टाइस जींस और लांग ड्राइस की वजह से बीपी कम हो गया, इससे खून का थक्का जमने की शिकायत हुई, जिससे किडनी भी प्रभावित हो रही थी। मरीज को बेहोशी की हालत में शालीमार बाग के मैक्स सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल की इमरजेंसी में भर्ती कराया गया। इमरजेंसी में कार्डियोलॉजी विभाग की टीम ने लगातार 45 मिनट तक सीपीआर देकर मरीज के शरीर में जान डाल दी।
सौरभ का इलाज करने वाले मैक्स अस्पताल के डॉ. नवीन भामरी ने बताया कि सौरभ को जिस समय इमरजेंसी में लाया गया उसकी सांसे बहुत कम थीं, इसी वजह से पल्स या बीपी की जांच नहीं हो पा रही थी, शरीर नीला पड़ गया था, इसलिए सबसे पहले हृदयगति को सुचारू करने के लिए सौरभ को सीपीआर दिया गया, 45 मिनट तक दिए गए मैराथन सीपीआर के बाद हृदयगति सामान्य हो पाई, इसके बाद देखा गया कि लंबे समय तक बीपी कम होने की वजह से वह पेशाब नहीं कर पा रहे थे, किडनी को सामान्य करने के लिए उन्हें कंटिन्युअस रीनल थेरेपी दी गई, यह 24 घंटे जारी रहने वाला डायलिसिस है। मरीज की सामान्य हालत होने के बाद पता चला कि मरीज की यह हालत टाइट जींस पहन कर लांग ड्राइव करने की वजह से हुई, जिससे दाहिने पैर का मूवमेंट कुछ समय तक बिल्कुल नहीं हुआ। इस स्थिति को पल्मोनरी इम्बोलिज्म कहा जाता है, और इसके 50 प्रतिशत मामलों में दिल का दौरा भी देखा जाता है। अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग के डॉ. योगेश कुमार ने बताया कि बीपी कम होने का हमारे दिल, आंख और सांसों पर असर पड़ता है, सौरभ के केस में यही हुआ लंबे समय तक बीपी कम होने की वजह से किडनी पर असर पड़ा और तुरंत सीआरआरटी करना पड़ा। सौरभ ने बताया कि वह 10 सितंबर को दिल्ली से ऋषिकेश के लिए निकले, लगातार आठ घंटे ड्राइव करने के बाद उन्हें पैरों मे सुन्नपन का एहसास हुआ, वह ऑटोगियर कार चला रहे थे, वापिस आने के बाद पैरों में लगातार सूजन बनी रही, जिसको उन्होंने नजरअंदाज किया, इसके बाद 12 अक्टूबर को वह बेहोश हो गए और परिजन उन्हें लेकर अस्पताल पहुंचे, सीपीआर देने के बाद भी वह दो दि तक वेंटिलेटर पर रहे। फिलहाल सौरभ स्वस्थ्य हैं, सौरभ लंबे समय से शराब और मांसाहार का सेवन कर रहे थे, हालांकि वह सिगरेट नहीं पीते।


Browse By Tags





Copyright © 2016 Sehat 365. All rights reserved          /         No of Visitors:- 898542