स्वस्थ्य व्यक्ति के मल से किया कोलाइटिस बीमारी का इलाज
Editor : Mini
 20 Jan 2022 |  164

नई दिल्ली,
कई तरह के प्रत्यारोपण की खबरों के बीच सरगंगारराम अस्पताल के चिकित्सकों ने मल प्रत्यारोपण से एक मरीज की कोलाइटिस बीमारी का सफल इलाज किया। 78 वर्षीय व्यक्ति का सरगंगाराम अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती किया गया। जो अल्सरेटिव कोलाइटिस (Colitis )से पीड़ित था और उसे ‘स्यूडोमेम्ब्रानस कोलाइटिस (पी.एम.सी.)’ नाम की बीमारी भी थी। उपचार के दो क्रमो के बाद भी बीमारी दोबारा हो जा रही थी। अंत में चिकित्सकों ने मरीज के उपचार के लिए एफएमटी या फीकल माइक्रोबायोटा ट्रांसप्लांट (Fecal Microbiota Transplant) जिसे स्टूल या मल प्रत्यारोपण भी कहा जाता है पर विचार किया।
मरीज को खूनी दस्त, निम्न रक्तचाप और उच्च हृदय गति के साथ गंभीर स्थिति में सर गंगा राम अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनके मल परीक्षण से पता चला कि सी. डिफिकल (एक खराब बैक्टीरिया) के कारण स्यूडोमेम्ब्रांसस कोलाइटिस (बड़ी आंत में अल्सर) की बीमारी की पुनरावृत्त है। इस बीमारी में जिससे रक्तस्राव के साथ लगातार दस्त, पैर में दर्द तथा बुखार होता है।
सर गंगा राम अस्पताल के डॉ. पीयूष रंजन, वाइस चेयरमैन, इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर गैस्ट्रोएंटरोलॉजी एंड पैनक्रएटिको बिलियरी साइंसेज के अनुसार इस बीमारी के लिए एकमात्र विकल्प स्वस्थ व्यक्ति से मल लेकर और मरीज की बड़ी आंत में प्रत्यारोपण करना था। इस दुर्लभ प्रत्यारोपण से आंत में अच्छे बैक्टीरिया की वृद्धि होती है और सी. डिफिकल (एक खराब बैक्टीरिया)की संख्या कम की जा सकती है।
डॉ. पीयूष रंजन ने आगे कहा कि हमने पहले भी गंभीर अल्कोहलिक हेपेटाइटिस (Alcoholics Hepatitis ) के लिए एफ.एम.टी. के जरिए इलाज किया जो स्टेरॉयड से ठीक नहीं हो रहे थे। भारत में एफ.एम.टी. के साथ बार-बार होने वाले पी.एम.सी. से इलाज किए जाने वाले मरीज का यह दुर्लभ मामला है। एफ.एम.टी. करने के दो दिनों के बाद मरीज की स्थिति में सुधार दिखने लगा। मरीज को बाद में छुट्टी दे दी गई और दो महीने के बाद में वह बिल्कुल ठीक है।

आंत में होते हैं अच्छे बैक्टीरिया
मानव आंत में अरबों बैक्टीरिया (Bacteria )होते हैं जिन्हें सामूहिक रूप से ‘आंत माइक्रोबायोम’ कहा जाता है। ये बैक्टीरिया मानव स्वास्थ्य को बनाए रखने में सक्रिय भूमिका निभाते हैं और कई बीमारियां हैं जो आंत बैक्टीरिया के असंतुलन से उत्पन्न होती हैं। अच्छे बैक्टीरिया और हानिकारक बैक्टीरिया के बीच असंतुलन की स्थिति को ‘डिस्बिओसिस’ कहा जाता है। आंतो के अंदर के ये जीवाणु (बैक्टीरिया) शरीर की इम्युनिटी यानि बीमारी तथा रोगो से लड़ने की क्षमता को प्रभावित करते है। स्यूडोमेम्ब्रांसस कोलाइटिस में सी. डिफिकल नामक बैक्टीरिया के आंतो में बैठ जाने से होती है।

बुजुर्गों को होती है दिक्कत
यह स्थिति आमतौर पर बुजुर्गों और लंबे समय तक एंटीबायोटिक थेरेपी, कीमोथेरेपी या इम्यूनोसप्रेसिव दवाओं पर लोगों को प्रभावित करती है। इस बीमारी के लक्षण दस्त, मल में रक्त और पेट में दर्द होते है । यह स्थिति गंभीर हो सकती है और 30% मरीजों में बार-बार पुनरावृत्ति हो सकती है। इस स्थिति का प्रारंभिक उपचार एक एंटीबायोटिक है जिसे ‘ओरल वैनकोमाइसिन’ कहा जाता है। यह लगभग तीन चौथाई रोगियों में प्रभावी है। दूसरे एपिसोड के बाद पुनरावृत्ति की स्थिति में फीकल माइक्रोबायोटा ट्रांसप्लांट (एफ.एम.टी.) सबसे अच्छा उपचार विकल्प है।

क्या है एफएमटी
एफ.एम.टी. (फीसेल माइक्रोबायोटा ट्रांसप्लांटेशन) का अर्थ है मरीजों में उचित परीक्षण के बाद एक स्वस्थ व्यक्ति से मल के अर्क को स्थानांतरित करना। यह बड़ी आंत में या छोटी आंत में कोलोनोस्कोपी द्वारा किया जा सकता है। यह प्रक्रिया न केवल ओ.पी.डी. के आधार पर की जा सकती है बल्कि यह बहुत ही लागत प्रभावी भी है।


Browse By Tags




Related News

Copyright © 2021 Sehat 365. All rights reserved          /         No of Visitors:- 709796