स्तन से दो किलोग्राम ट्श्यिू हटा कर छोटे किए विशालकाय स्तन
Editor : Mini
 28 Apr 2022 |  70

नई दिल्ली
संयुक्त अरब अमीरात (यूएई ) की एक 60 वर्षीय महिला के अति विशालकाय स्तन थे, जिसके कारण उसकी जीवनशैली पिछले 30 साल से बहुत ही खराब थी। बढ़े हुए स्तनों के बोझ की वजह से उसे चलने में परेशानी, कंधे पर ब्रा की पट्टियों का दबाव का दर्द, गर्दन में दर्द एवं स्तनों के नीचे चकत्ते पड़ गए थे। उसके लिए यह पीड़ा असहनीय थी। महिला ने सर गंगा राम अस्पताल के डिपार्टमेंट ऑफ़ प्लास्टिक एंड कॉस्मेटिक सर्जरी के डॉ. राजीव बी. आहूजा, सीनियर कंसलटेंट से दो महीने पहले संपर्क किया। महिला की बे्रस्ट रिडक्शन की सर्जरी कर स्तन के आकार को सामान्य किया गया।
डॉ. राजीव बी. आहूजा के अनुसार, "जब मैंने मरीज की जांच की तो मैं चौंक गया, उसके स्तन बहुत बड़े थे (गिगेंटोमैस्टिया) जिसमें स्तन नाभि से दो इंच नीचे तक पहुंच रहे थे। अपने पिछले 40 वर्षों के अनुभव में मैंने कई विशाल स्तन देखे हैं लेकिन इस मरीज के स्तन सबसे बड़े थे, जिसका आकार मैंने पहले कभी नहीं देखा था। बड़े स्तनों के कारण मरीज की जीवनशैली बहुत ही खराब हो गई थी। अब हमारे लिए चुनौती सिर्फ स्तनों के आकार को कम करने और उसकी छाती का भार उठाने की नहीं थी, बल्कि उसे एक सौंदर्यपूर्ण रूप से सुखद परिणाम प्रदान करने की थी।"
डॉ. राजीव बी. आहूजा ने आगे कहा, "गिगेंटोमैस्टिया एक बहुत ही दुर्लभ बीमारी है जहां स्तन बहुत अधिक बढ़ जाते हैं। चिकित्सा साहित्य में इसके केवल दो सौ मामले दर्ज किए गए हैं। ज्यादातर यह हार्मोन्स के प्रति अत्यधिक संवेदनशीलता के कारण होता है और कई बार गर्भावस्था के बाद स्तन वापस सामान्य आकार में नहीं आते हैं। मरीजों को ऐसा लगता है जैसे वे अपनी छाती पर भारी बोझ ढो रहे हैं। सर्जरी चुनौतीपूर्ण थी और साढ़े पांच घंटे तक चली।"
कैसे की गई सर्जरी
इस तरह के अधिकांश मामलों में सर्जरी बिना निप्पल / एरोला ग्राफ्टिंग के साथ स्तन का कुछ हिस्सा अलग करके होता है जो छाती पर भार को कम करने पर भी सौंदर्य की दृष्टि से सुखद नहीं है। इस मामले में, डॉ. रमन शर्मा एसोसिएट कंसल्टेंट और डॉ. पूजा गुप्ता, सीनियर रेजिडेंट, डिपार्टमेंट ऑफ़ प्लास्टिक एंड कॉस्मेटिक सर्जरी की हमारी टीम ने बड़े स्तनों के लिए इस्तेमाल की जाने वाली एक मानक तकनीक द्वारा स्तन को कम करने का फैसला किया, लेकिन इस प्रयोग गिगेंटोमैस्टिया के लिए नहीं किया जा सकता था। ऐसा इसलिए है क्योंकि अवर पेडिकल कमी की तकनीक इतने बड़े स्तनों पर लागू होने पर निप्पल/एरिओला कॉम्प्लेक्स के कालापन का कारण बन सकती है। हमें निप्पल-एरोलर कॉम्प्लेक्स को एक बहुत लंबे पेडिकल पर ले जाने के लिए तकनीक को संशोधित करना पड़ा, लेकिन हमने अभी भी मरीज को जरुरत पड़ने पर स्तनों को काटने की आवश्यकता के बारे में आगाह किया (सर्जरी के दौरान)। हमने बाईं ओर 1.3 किलोग्राम स्तन टिश्यू और प्रत्येक तरफ दाईं ओर 1.4 किलोग्राम टिश्यू (कुल 2.7 किलोग्राम, जो बहुत बड़ा है) को हटा दिया। सर्जरी सफल रही और सर्जरी के बाद की अवधि सुचारू और असमान थी। एक बहुत ही सुखद सौंदर्य प्राप्त हुआ और मरीज को सर्जरी के तीन दिन बाद छुट्टी दे दी गई। सर्जरी के 12-14 दिन बाद टांके हटा दिए गए। उसे छह सप्ताह तक कठिन व्यायाम से बचने या भारी वजन न उठाने की सलाह दी गई। उसने अब बिना किसी परेशानी के एक कप साइज़ "सी/डी" ब्रा पहन रखी है और दर्द रहित सुखी जीवन जी रही है। महिला को यह सर्जरी दुबई की अपेक्षा भारत में सस्ती पड़ी, और स्तन के किसी भी भाग को अलग किए महिला को अपना पहले जैसा सौंदर्य वापस मिल गया।


Browse By Tags




Related News

Copyright © 2021 Sehat 365. All rights reserved          /         No of Visitors:- 709838