जामनगर में शुरू हुआ विश्व का पहला पारंपरिक चिकित्सा केन्द्र
| 4/20/2022 9:44:46 AM

Editor :- Mini

जामनगर
भारत सरकार के आयुष मंत्रालय और विश्व स्वास्थ्य संगठन के संयुक्त प्रयास से मंगलवार को विश्व के पहले वैश्विक पारंपरिक चिकित्सा केंद्र ( ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन) का शिलान्यास किया गया। केन्द्र का शिलान्यास माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मॉरिशस के प्रधानमंत्री प्रविन्द जगन्नाथ और डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस घेब्रेयसस की गरिमामय उपस्थिति में किया गया। खास बात यह भी रही कि बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, भूटान के प्रधानमंत्री श्री लोतेय त्शेरिंग और नेपाल के प्रधानमंत्री श्री शेर बहादुर देउवा ने भी कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हिस्सा लिया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिलान्यास समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि जामनगर में आज केवल एक भवन या केंद्र का शिलान्यास नहीं हुआ, बल्कि यह शिल्यान्यास आने वाले 25 साल के लिए विश्वभर में पारंपरिक दवाओं के युग का आरंभ कर रहा है। हॉलिस्टिक हेल्थकेयर के बढ़ते चलन से आने वाले 25 साल में यह केन्द्र दुनिया के लिए बेहद जरूरी होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जामगर से अपने जुड़ाव और आयुर्वेद के क्षेत्र में किए जामनगर के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि भारत में जो नेशनल न्यूट्ीशन योजना की शुरुआत की गई है, उसमें भी भारतीय प्राचीन आहार प्रणाली का ध्यान रखा गया है। उन्होंने कहा कि निरोगी रहना, जीवन के सफर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हो सकता है। लेकिन, वेलनेस ही अंतिम लक्ष्य होना चाहिए। वेलनेस का हमारा जीवन में क्या महत्व है, इसका अनुभव हमने कोविड महामारी के दौरान महसूस किया है। कोविड काल में भी आयुष काढ़ा ने लोगों के जीवन की रक्षा की। आयुर्वेद के क्षेत्र में जो देश का अनुभव है, उसे पूरी दुनिया के साथ साझा करना भारत अपना दायित्व समझता है। भारतीय योग पंरपरा कई रोगों से छुटकारा दिला रही है। विश्व योग दिवस पूरी दुनिया के लिए भारत का उपहार है। जामनगर स्थित वैश्विक पारंपरिक चिकित्सा अनुसंधान केंद्र का अंतरिम कार्यालय द इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रेनिंग एंड रिसर्च इन आयुर्वेद गुजरात से संचालित किया जाएगा। केंद्र की स्थापना के लिए भारत सरकार द्वारा 250 मिलियन यूएस डॉलर की आर्थिक सहायता राशि दी गई है। जीसीटीएम को इस तरह डिजाइन किया गया है जिससे कि दुनिया के सभी क्षेत्र इससे जुड़ सकें और लाभान्वित हो सकें। जीसीटीएम द्वारा अनुसंधान, जानकारियां साझा करने, गुणवत्ता, प्रशिक्षण और कौशल विकास में क्षमता निर्माण पर ध्यान केन्द्रित किया जाएगा।

केन्द्र के लिए प्रधानमंत्री के पांच मूल मंत्र
प्रधानमंत्री ने ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन को लेकर पांच लक्ष्य तय किए। उन्होंने डब्लूएचओ से आग्रह किया कि इस पर ध्यान दिया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं इस ग्लोबल सेंटर के लिए पांच लक्ष्य भी रखना चाहता हूं। पहला लक्ष्य- टेक्नोलॉली का उपयोग करते हुए, ट्रेडिशनल विद्याओं के संकलन का है, उनका डेटाबेस बनाने का है। दूसरा लक्ष्य- पारंपरिक औषधियों की टेस्टिंग और सर्टिफिकेशन के लिए इंटरनेशनल स्टैंडर्ड भी बनाने चाहिए। तीसरा लक्ष्य- केन्द्र को एक ऐसा प्लेटफॉर्म बनना चाहिए जहां विश्व की पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों के एक्सपट्र्स एक साथ आएं, एक साथ जुटें, अपने अनुभव साझा करें। चौथा- फार्मासियुटिकल के क्षेत्र में कंपनियां बहुत अधिक निवेश करती हैं। आयुष के क्षेत्र में शोध के लिए कंपनियों को बढ़चढ़ कर आगे आना चाहिए। पांचवा- बीमारियों के लिए इलाज के लिए एक साझा प्रोटाकॉल तैयार किया जाना चाहिए जिससे होलेस्टिक मेडिसिन और मॉडर्न मेडिसिन का एक साथ इलाज किया जा सके।
टेड्रोस गुजराती में बोले केम छो
विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉ टेड्रोस एडनॉम घेब्रेयसस ने संबोधन की शुरुआत गुजराती और हिंदी में की। उसके बाद उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ-ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन’ कोई संयोग नहीं है। मेरे भारतीय शिक्षकों ने मुझे पारंपरिक दवाओं के बारे में अच्छी तरह से सिखाया और मैं उनका बहुत आभारी हूं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोविड के समय में पारंपरिक चिकित्सा प्रणालियों के प्रयोगों को बारीकी से देखा और विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि डॉ. घेब्रयसस ने भारत की इसके लिए प्रशंसा की, जिसके बाद भारत और डब्लूएचओ की इस साझेदारी पर काम करने की सहमति बनी।
हर साल मनाते हैं आयुर्वेद दिवस : श्री प्रविन्द कुमार जगन्नाथ
मॉरिशस के प्रधानमंत्री श्री प्रविन्द कुमार जगन्नाथ ने कहा कि भारत की पारंपरिक चिकित्सा पद्धति ने मॉरीशस को भी बहुत अधिक प्रभवित किया है। यह बड़े गर्व की बात हैं कि भारत में शुरू हुए विश्व के पहले ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन सेंटर का हिस्सा मॉरीशस भी है। भारतीय पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों के प्रभाव, उपयोगिता और इनकी प्रमाणिकता को लेकर इस केंद्र के भूमिका बहुत ही अधिक कारगर साबित होगी। उन्होंने वर्ष 2015 में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की मॉरीशस की यात्रा के दौरान दोनों देशों में टीएम और होम्योपैथी को लेकर एक एमआयू पर हस्ताक्षर भी किया गया। इसी क्रम में मॉरीशस में 12 एकड़ जमीन पर फैले आयुष सेंटर ऑफ मॉरीशस का निर्माण भी किया गया। मॉरीशस के प्रधानमंत्री श्री प्रविन्द कुमार जगन्नाथ ने कहा कि वर्ष 2016 में देश में पहला आयुर्वेद दिवस मनाया गया और तब से लेकर आज तक हर साल इस दिवस को मनाया जाता है।

















Browse By Tags



Videos
Related News

Copyright © 2016 Sehat 365. All rights reserved          /         No of Visitors:- 186710